Site icon Anunaad

अब चैन नहीं ……..

Advertisements

सोचता हूँ क्या लिखूँ ?
“क्या लिखूँ“ अब इस पर भी लिखूँ ।

कुछ न सोचूँ अब, तो इसके लिए भी सोचूँ ,
ज़िन्दगी के दर्शन के दर्शन को सोचूँ ।

भीड़ में रहूँ तो तनहाई के लिए सोचूँ ,
और तनहा होने पर क्यूँ हूँ तनहा ये सोचूँ ।

बातों का ट्रानजिस्टर लिए घूमता हूँ,
पर शुरूवात कहाँ से करूँ ये सोचूँ।

जी भरकर देखने को जी चाहता है और,
अब सामने हो तो क्या देखूँ मैं ये सोचूँ।

ज़िन्दगी की दौड़ में मैं सबसे आगे रहना चाहता हूँ,
और ज़िन्दगी में इतनी भागम-भाग क्यूँ है, मैं ये सोचूँ।

बेचैन रहने की फ़ितरत है तेरी आनंद,
और आता क्यूँ नहीं चैन मैं ये सोचूँ।

Skip to toolbar