Anunaad

और चिड़िया उड़ गई…..

Advertisements

मेरे नैन काश
होते तुम एक चिड़िया
खुले आकाश में
करते भ्रमण
कहीं आते जाते
न होती कोई रोक-टोक
जब भी होती इच्छा
उड़ लेते उनके शहर की ओर ।

मिला मुझे एक वरदान
उड़ सकते हैं ये नैन
देखो ये दिल
ज़ोर से है धड़का
ज़ोर से चली हवा
शायद कोई गुज़रा
महकी मेरी साँसे
ये तो थी उनकी
यादों की आहट
लो पाने को एक झलक
जाना है उनके शहर
और चिड़िया उड़ गयी।

Skip to toolbar