Site icon Anunaad

इकतरफ़ा इश्क!

Advertisements

कई एक पलों में हमने जी ली थी ज़िंदगी संग,
और पाकर साथ तेरा रोमांचित था हर एक अंग ।

पका लिए ढेरों ख़याली पुलाव तुझको लेकर,
तैयारियाँ भी पूरी थी तेरे संग सफ़र को लेकर ।

तुम्हारी तरफ़ जब हमने एक उम्मीद से देखा,
आँखों की चमक को शर्म ए गुनाह में बदलते देखा ।

फिर क्या, इस कहानी को मैंने यूँ एक नया अंजाम दिया,
दबा लीं सारी बातें और दिल को अपने क़ब्रगाह बना लिया ।

Skip to toolbar