Posted in Uncategorized

प्यार में लगते हो!

किसी के ख्यालों में खोए लगते हो !
अपनी ही सुध नही, नशे में लगते हो!

शर्म से नज़रें झुकाते हो दिल के साफ़ लगते हो !
मोहब्बत की गली से पहली बार गुज़रे हुए लगते हो !

हो न हो किसी के प्यार में लगते हो!
बात ज्यादा नही बस दिल के खेल में नए लगते हो!

यूँ घबराकर हाथ पैर चलाते हो बड़े बेचैन लगते हो !
तुम डूबे नहीं बस इश्क़ की गहरायी में उतरे लगते हो !

भीड़ में भी अकेले हो चेहरे से उदास लगते हो !
किसी की मासूम मुस्कान में क़ैद क़ैदी लगते हो !

कुछ कहते नहीं हो बिरादर बड़े ख़ामोश लगते हो !
दिल में दबा रखी हैं ढेरों बातें बंद तिजोरी लगते हो !

आँखो में ये जो शानदार चमक है अंदर एक आफ़ताब लिए लगते हो !
किसी बेहद दिलकश हसीन चेहरे से रूबरू हुए लगते हो!

आओ बैठो दिल के कुछ राज तो खोलो बड़े शर्मीले लगते हो !
हमें शौक़ है दिल की कहानियों का तुम काम के आदमी लगते हो !