Posted in Uncategorized

आज के दौर में इश्क़…

दौर ए जमाँ बदल रहा है
हर इंसाँ बदल रहा है
कौन कितना बड़ा बहरूपिया
कम्पटीशन चल रहा है।

चोरी से की जाने वाली
चीज़ों का डिस्पले चल रहा है
अब और नया क्या करें
इस पर विचार चल रहा है।

प्रेम जैसी चीज़ का
फ़ैशन चल रहा है
और प्रेम है किधर
इस पर रिसर्च चल रहा है।

मुहब्बत पर नए तरीक़े से
जमकर प्रयोग चल रहा है
इश्क़ करने के तरीक़ों का
क़ारोबार चल रहा है।

रचाए ढेरों स्वाँग हमने
देखो रंगा पुता जिस्म चल रहा है
पैदा कर दे दिलों में लालसा
छलकता हुवा जवानी का पैमाना चल रहा है।

आज़माए हर तरीक़े पर
न कोई संतोष मिल रहा है
पाने को प्रेम इस जहाँ में
हर इंसाँ नंगा चल रहा है।

Posted in Uncategorized

तज़ुर्बा ए ज़िन्दगी…

हिम्मत और जोश बनाए रखें दौड़ ए ज़िंदगी में
कुछ हासिल हो न हो, तज़ुर्बे ख़ूब मिलते हैं ।

जीत और हार की मत सोच बस कोशिशें करता रह
ख़ुद को घिस-घिस कर तू अपनी धार तीखी करता रह ।

गर्दिश और फ़तह में बस इक महीन सा अंतर है,
फ़र्श से अर्श तक पहुचने में बस कोशिशों के तरीक़े का अंतर है।

क़िस्मत और मेहनत तो ज़रूरी है ज़िंदगी में जीतने के लिए लेकिन
किसी कहानी का क्या होगा अंजाम बस तज़ुर्बे तय करते हैं ।

Posted in Uncategorized

गुफ़्तगू खुद से….

ज़िंदगी अगर तुझे समझ कर जीते
तो फिर क्या ख़ाक जीते !

मज़ा तो ग़लतियाँ करने में था
हर पल को दिल से जीने में था !

माना कि ग़लतियाँ हज़ार हुयीं हमसे
सुनाने को कहानियाँ ख़ूब मिली इनसे !

क्या बताऊँ दिलों के खेल में दर्द ख़ूब मिले
छाया था ऐसा नशा जो न बोतलों में मिले!

ज़हर ख़ूब था हममें औरों का असर क्या होता
नशा ख़ुद का था हममें, शराब का असर क्या होता !