Posted in Uncategorized

प्रकृति और महामारी…

जितनी धूल चढ़ी थी जिन्दगी की किताब पर सब साफ हो गई,
एक अदृश्य प्रहार प्रकृति माँ की हम सबकी आँखे खोल गई।

धरा रह गया सारा ताना बाना आज हमारे ज्ञान का,
दम्भ ढह गया सब जीवों से होना हमारे महान का ।

ऐसी प्रगति के हम सूत्रधार बन गए कि भूल गए जीवन को,
अब डर से घर में कैद हो गए बचाने को अपने-2 जीवन को।

ज्ञान-विज्ञान ने दी तेजी हमको पहुंच गए हम मंगल और चाँद पर,
वही तेजी अब भारी पर गयी देखो पूरी मानव प्रजाति के प्राण पर।

बाहर दीवारों पर रंग-रोगन करते रहे हम अन्दर से खोखले हो गए,
अंधी भौतिकता की प्रगति में हम जीवन के सारे बेसिक भूल गए।

चलना था साथ सभी को पर हम तो दौड़ में आगे निकल गए,
ऊंचाई तो बहुत मिली हमें पर देखो हम वहां अकेले रह गए।

कुछ प्लेटों में सब कुछ था पर देखो उनको खाने की भूख न थी,
और समाचार में उस गरीब की मौत की वजह बस उसकी भूख थी।

एक से दो, दो से चार और देखते-2 न जाने हम कितने करोड़ हुए,
इस धरा पर रहते और जीव भी वे बेघर और खत्म बेजोड़ हुए।

कहते रहे कबीर कि मानव मत लो किसी बेबस की हाय,
मुई खाल की स्वांस से सुन लो सभी सार भस्म हुइ जाय।

दोहन प्रकृति का हमने खूब किया न जाने कितनी भूख थी,
जिस धरती पर खड़े हुए थे वो अब अन्दर से खोखली थी।

कोरोना तो बस बहाना है प्रकृति माँ कर रही सभी जीवों में संतुलन,
उसे भी तो करना है अपने सभी बच्चों का पोषण और लालन-पालन।

मौका है अभी सुधार जाओ और कर लो तुम सारे गुनाह कुबूल,
दो परिचय अपने विवेक का और मान लो झुककर सारी भूल।

धरती माँ है अपनी दिल उसका भी इक दिन जरूर पिघलेगा,
जब मानव बच्चों सा निर्मल-सरल दिल लेकर बाहर निकलेगा।

सब जीवन का सम्मान हो अब से, न कोई छोटा और बड़ा होगा,
अब धरती माँ को मिलकर हम सबको या विश्वास दिलाना होगा।