Posted in POETRY

चमक

तुम्हारी नज़रों ने इस तरह देख जो लिया,
कि बढ़ गयी चमक दिए की लौ की आज।

©अनुनाद/सम्मोहित आनन्द/२१.११.२०२०