Posted in Uncategorized

अमीरी-गरीबी

थोड़े से पैसे क्या आये तो दुनिया में होते कई रोग पता चला,
जब गरीब थे कितने मासूम थे, हम भूख को ही रोग समझते थे।

शुगर, ब्लड प्रेशर और न जाने कितने रोग देखे,
खाने पीने के अलावा भी होते हैं खर्च हमने देखे।

सुख सुविधाओं के नाम पर एक छत हो, यही ख्वाहिश होती थी,
और आज खाली समय और नींद के सिवा सब कुछ हमारे पास है।

नंगे थे तो न जाने कैसे जिन्दगी बेखौफ जिया करते थे,
और आज ये सब खो न दें बस इसी डर में जिया करते हैं।

बेवकूफ थे तो दुनिया कैसे चलती है कोई मतलब न था,
समझने लायक हुए तो इसके हर तरीके से परेशानी थी।

वो ईश्वर है, वो इस दुनिया का मालिक है रहबर है, मेरा बचपना था,
दुनिया को चलाने वाले बैठते संसद में, ईश्वर अब मंदिरों में कहां मिलता है।

आगे बढ़ने और समझदार होने की मँहगी कीमत चुकाई है हमने,
वो सीमित संसाधनों और भोलेपन में जीना कितना अनमोल होता था।

Posted in Uncategorized

न्यूज़ जोर गरम…

न्यूज़ जोर गरम
मैं लाया मजेदार
न्यूज़ जोर गरम….
न्यूज़ जोर गरम।

मेरी न्यूज़ है बेहद ब्रेकिंग,
हम हैं बेहद रिस्क टेकिंग,
सही गलत की तुम न करना टेस्टिंग,
मैं लाया तुम तक सबसे पहले….
न्यूज़ जोर गरम,
मैं लाया मजेदार
न्यूज़ जोर गरम।

इस न्यूज़ का अब डालेंगे अचार,
देखो हम लाए टीवी पर नेता चार,
आज़ादी से लेकर आज तक पूरी चर्चा करेंगें,
इस खबर पर हम अपनी रोटी सेंकेंगे….
ये न्यूज़ इतनी गरम
मैं लाया मजेदार
न्यूज़ जोर गरम।

चैनल हो गए हैं प्रेशर कुकर,
और चढ़ा कर इसे घटना की आंच पर,
मसाले डाल दिए हिन्दू मुसलमान के और लगने दी सीटी,
लो हो गई गरमा-गरम खबर तैयार….
तुम भी चख लो
मैं लाया मजेदार
न्यूज़ जोर गरम।

कलाकार हम बेहद उम्दा, टेक्नोलॉजी का प्रयोग है धाँसू,
जिन्दा आदमी से लेकर एनीमेशन तक का प्रयोग है फाड़ू,
हमने तो कार्टूनों को भी मुस्लिम टोपी पहनाई है,
तब जाकर हमारे न्यूज़ चैनल में जान आई है,
बिरला सीमेन्ट से भी जानदार
मैं लाया मजेदार
न्यूज़ जोर गरम।

विशेषज्ञ हर क्षेत्र के, हम सा कोई न दूजा,
हमने तो मंगल ग्रह पर पानी भी है खोजा,
इंजीनियर डॉक्टर अकाउंटेंट क्या ही जाने,
हमने तो आई०सी०यू० में घुसकर छुड़ाए सबके पसीने….
विशेषज्ञ हम हरफनमौला
मैं लाया मजेदार
न्यूज़ जोर गरम।

हम चाहें तो तुमको स्टार बन दें,
लगाकर आरोप आरोपी बना दें,
प्रश्न पूछकर हम तो आगे निकल गए,
उलझना मत, हम कितनों को निगल गए,
सच झूठ से मतलब नही बस न्यूज़ जोर गरम
मैं लाया मजेदार
न्यूज़ जोर गरम।

न्यूज़ में न्यूज़ के अलावा सब कुछ,
चुप-चाप देख तू कोई प्रश्न न पूँछ,
दो मिनट की न्यूज़ को घंटे भर जो चलाना है,
हमें तो एकता कपूर को भी नौटंकी में पानी भराना है….
एक्टर हम सुपरस्टार
मैं लाया मजेदार
न्यूज़ जोर गरम।

ये तो शुद्ध बिजनेस है, खबर नही ये सुर्ख,
इस पर जो विश्वास करो, तो तुम निरा मूर्ख,
ढंग की खबर दूरदर्शन पर सुबह शाम आती थी,
इतनी तो घटनाएँ नही जितनी न्यूज़ अब आती है,
बोर न हो जाओ तुम इसीलिए न्यूज़ जोर गरम
मैं लाया मजेदार
न्यूज़ जोर गरम।

Posted in Uncategorized

लोग इश्क़ में क्या-२ मांगते हैं…

इस शहर में उनके दीवाने बहुत हैं…….
कोई चक्कर हो न हो पर उन पर अपना हक़ सब ख़ूब जताते हैं ।

लोग इश्क़ में न जाने क्या क्या माँगते हैं…….
कभी हमारा पसंदीदा रंग भर पूछ लिया था उन्होंने और हम इसे ही क़िस्मत मानते हैं।

आज आए हैं वो महफ़िल में पहन कर साड़ी…….
बात करने के कितने बहाने ढूँढकर सब उनके पास जाना चाहते हैं ।

लोग कहते हैं कि इस रंग की साड़ी ख़ूब फ़बती है उन पर…….
और हम ख़ुश हैं कि वो हमारी पसंद के रंग का ख़याल ख़ूब रखते हैं।

इस मशरूफियत में भी वो हमारी तरफ देखकर मुस्कुराते हैं…….
और हम उनके मुस्कान की बारीकियों को भी शोध का विषय मानते हैं।

लोग इश्क़ में न जाने क्या-क्या माँगते हैं…
और हम इस भीड़ में उनके बग़ल से गुज़र जाने को भी क़िस्मत मानते हैं।

Posted in Uncategorized

ईश्वर तेरे रूप अनेक!

बदलते दौर में न जाने मैंनें क्या-२ देखा,
हे भगवन तुझे भी मैने रूप बदलते देखा।

तू रहता आलीशान मंदिरों में जब अमन चैन हो,
तुझे शुद्ध घी और मेवे के भोग लगाते मैंनें देखा।

इन पुजारियों का तो पता नही मगर आज मैंने तुझको,
इलाज करते डॉक्टर और गश्त लगाती पुलिस में देखा।

महामारी है फैली चारों तरफ तो आज मैंने तुम्हें
गलियों में सफाई को उतरे जमादारों में देखा।

छिड़ी जंग तो तुझको लहू बहाते सैनिकों में देखा,
और भूख लगी तो पसीना बहाते किसानों में देखा।

जब घर में मेरे अँधियारा छाया मैंनें तुझे याद किया और फिर,
बिजली का तार जोड़ते तुझे बिजली कर्मचारी के रूप में देखा।

ठहर गया है सब कुछ और नही कुछ आज कमाने को,
गरीबों के लिए लुटाते खजाने, आज तुझे इन अमीरों में देखा।

पूजा-पाठ, दिया-शंख और न जाने कितने कर्मकाण्ड,
मैं ठहरा पागल जो तुझे ढूढने को दुनिया भर में घूमा।

जब भी मुसीबतों में हुआ तो कुछ यूँ पूरी हुई तेरी खोज,
मदद को आगे आये प्रत्येक इंसान में मैंनें तेरा रूप देखा।

Posted in Uncategorized

आँखें…

आँखें…

खूबसूरत आँखों पर बहुत कुछ लिखा गया है। मैंने इनके बारे में थोड़ा पढ़ा और सुना भी है। इन आँखों ने बहुत ही क़हर ढाया है। न जाने कितनी लड़ाइयों की वज़ह भी बनी हैं ये आँखें। आँखो के इशारों से कही गयी बात आँखों से ही पढ़ लेने वाले लोग कम ही मिलते हैं। पर जो इस कला में माहिर हो गया उसने दुनिया के सभी रस ले लिए, वो भी बिना किसी के पता चले और बिना किसी को नुकसान पहुँचाए। ज्यादा नही लिखूँगा इस पर । बस जो गुणी हैं वो समझ गए होंगे….
😋

मृगनयनी, कमल नयन और न जाने कितने रूप और परिभाषाओं में आँखों की तारीफों के पुल बाँधे गए हैं। पहले ये सब केवल कवियों की कपोल कल्पनाएँ लगती थी मुझे लेकिन ये सच भी होता है। नीचे फ़ोटो में जो आंखें हैं वो बिल्कुल कमल नयन हैं। आंखों का वक्र बिल्कुल कमल की पत्तियों के समान हैं। मैं इन आँखों के दर्शन रोज करता हूँ।

एक खास और अनोखा चुम्बकीय आकर्षण है। मैं ही नही कई और भी हैं कतार में जो इन आँखों से प्रभावित है। आप भी जरूर महसूस करेंगे इस सम्मोहन को, जो इन आँखों मे सागर जितनी विशालता लिए हुए है……!

magneto #eyes #alevelbeyond #godblessyou