Posted in POETRY

नज़रें

इन नज़रों की नज़र को…..
ये नज़रें न चाहें हटना नज़र भर को!

बेमिसाल_आँखें

लाजवाब_नजारा

©️अनुनाद/आनन्द कनौजिया/२६.१०.२०२०