Posted in CHAUPAAL (DIL SE DIL TAK), POETRY

सवेरा

सुबह तो हो गयी है !
पर वाक़ई में?
उठ तो गये हो !
पर जागृत हो?
याद तो करते हो !
मन से न ?
मुस्कुराते तो खूब हो !
दिल से न ?

शुभ सुप्रभात 😊

अनुनादित रहें!
आनंदित रहें!

©️®️शुभ प्रभात/अनुनाद/आनन्द कनौजिया/०३.१२.२०२१