Posted in POETRY

अनजान!

चलो आज फिर हम इक-दूजे से बिल्कुल अनजान हो जाए,
तुझसे आगे कहीं मिलूँ तो पहली मुलाकात वाला एहसास हो जाए।


©️®️अनजान/अनुनाद/आनन्द कनौजिया/०९.०६.२०२१