Posted in POETRY

अरसा

एक अरसा बिता दिया बहुतेरों ने
ऐ इश्क़ तुझे पल भर जी लेने को।

फिर एक अरसा बिता दिया लोगों ने
इश्क के उस पल को भूल जाने को।

©️®️अरसा/अनुनाद/आनन्द कनौजिया/२२.०६.२०२१